अभी नहीं हटते तो बाद में आयोग हटा सकता था इसलिए आचार संहिता से पहले ही हो गई कलेक्टर की विदाई

*अभी नहीं हटते तो बाद में आयोग हटा सकता था इसलिए आचार संहिता से पहले ही हो गई कलेक्टर की विदाई*

– *वोटर लिस्ट में हुई गड़बड़ी में मॉनिटरिंग न करने का दोषी पाया था निर्वाचन आयोग*

– *अधीनस्थ अमले ने कलेक्टरी की कुर्सी से करा दी विदाई*

*शिवपुरी*।

शिवपुरी जिले में मतदाता सूची की जांच के दौरान 59517 वोटर फर्जी पाए जाने और सूची के शुद्धिकरण काम में सही मॉनिटरिंग न करने पर शिवपुरी कलेक्टर तरूण राठी की विदाई जिले से हो गई। आईएएस तरूण राठी के स्थान पर अब शासन ने वर्ष 2008 बैच की आईएएस शिल्पा गुप्ता को शिवपुरी कलेक्टर बनाया है। शिवपुरी में अपने छोटा से कार्यकाल के दौरान तरूण राठी वोटर लिस्ट में गड़बड़ी की सही मॉनिटरिंग न करने पर निर्वाचन आयोग की नजरों में दोषी पाए गए थे। इस कारण शासन ने इस साल होने वाले मेन विधानसभा चुनाव की आचार संहिता लगने से पहले ही तरूण राठी को हटा दिया। सूत्रों ने बताया कि शासन स्तर से तरूण राठी अभी नहीं हटते तो निर्वाचन आयोग मप्र में आचार संहिता लागू होते ही उन पर कार्रवाई करता। इसलिए मप्र सरकार ने पहले उन्हें हटाते हुए नए आईएएस शिल्पा गुप्ता की तैनाती शिवपुरी में कर दी। जिससे यह विवाद समाप्त हो जाए और नई कलेक्टर एक नए सिरे से यहां पर फोकस कर सकें।

*अधीनस्थ अमले पर नहीं थी पकड़ *

तरूण राठी लगभग आठ माह पहले जब शिवपुरी में आए तो लोगों को उम्मीद थी कि वह अपने पहले कलेक्टर कार्यकाल में अच्छा काम करेंगे। लेकिन अधीनस्थ अमले पर अच्छी पकड़ न होने से उन्हें नुकसान हुआ। कोलारस उपचुनाव और इसके बाद वोटर लिस्ट में जो गड़बड़ी का मामला सामने आया वह उनके कम अनुभव को ही दर्शाता है। इसके अलावा उनकी अधीनस्थ अमले पर कोई पकड़ नहीं थी। सीधा स्वभाव और कड़ी कार्रवाई से बचने के चलते तरूण राठी कोई प्रभावी मौजूदगी जिले में दर्ज नहीं करा पाए।

*अभी भी वोटर लिस्ट को सुधारना एक चुनौती*

शिवपुरी जिले में मतदाता सूची की जांच के दौरान जो 59517 वोटर फर्जी पाए गए हैं। उसको पूरी तरह सुधारना अभी एक चुनौती है। खासकर नई कलेक्टर शिल्पा गुप्ता के सामने यह एक चुनौती पूर्ण कार्य होगा। पिछले दिनों जांच के दौरान 20886 मतदाता तो ऐसे पाए गए जो मर चुके हैं। फिर भी इनके नाम सूची में हैं। इनमें से अभी तक 14901 मतदाताओं के नाम सूची में से हटाए गए हैं। इस काम में अभी और तेजी की जरूरत है।

Durgesh Gupta

Chief Editor

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *