अवसरों का अभाव प्रतिभा विकास में बड़ी बाधा अहम, अहंकार, की बाढ़ में कुव्यवस्था का तूफान

 

शिवपुरी -कहते है नैसर्गिक सिद्धान्त के विरुद्ध व्यवहार कभी अच्छी व्यवस्था का निर्माण नहीं कर सकता, खासकर जब नैसर्गिक व्यवहार अनुरुप अंगीकृत व्यवस्था अहंम, अहंकार में डूब कुव्यवस्था का कारण बन जायेें। फिर वह जनतंत्र, राजतंत्र, लोकतंत्र या फिर कोई अन्य व्यवस्था हो। आज जब हम भारतवर्ष के महान लोग 69वां गणतंत्र दिवस मनाने जा रहे है ऐसे में राष्ट्र के विधा, विद्ववान, प्रतिभाओं को सहज अवसरों का अभाव हमें विचलित करता है..

Durgesh Gupta

Chief Editor

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *