कभी Flipcart में 8000 रुपये प्रति महीना की सैलरी पर काम करने वाले अम्बर बने करोड़पति

पिछले हफ्ते देश में दुनिया की सबसे बड़ी ई-कॉमर्स डील हुई है. फ्लिपकार्ट (Flipkart) में अमेरिका की रिटेल चेन कंपनी वॉल्मार्ट (Walmart) ने 77 फीसदी हिस्सेदारी 1.07 लाख करोड़ रुपये में खरीद ली है. लेकिन आपको यह जानकार बेहद हैरानी होगी कि कंपनी में कभी 8000 रुपये प्रति महीना की सैलरी पर काम करने वाले अम्बर इय्यप्पा इस डील के बाद करोड़पति बन गए हैं.
अम्बर इय्यप्पा-फ्लिपकार्ट कंपनी के पहले कर्मचारी थे, आज करोड़पति है. अगर अम्बर इय्यप्पा ने 2009 में पुरानी नौकरी छोड़कर फ्लिपकार्ट की नौकरी नहीं की होती, तो आज उसके पास इतने पैसे नहीं होते और फ्लिपकार्ट कंपनी की शायद किस्मत कुछ और होती. 2007 में शुरू करने के दो साल बाद फ्लिपकार्ट के फाउंडर सचिन और विनी बंसल का कारोबार धीरे -धीरे चलने लगा था.

जल्द ही ऐसा भी वक्त आया जब एक दिन में 100 आर्डर आने लगे. सचिन व बिन्नी बंसल को लगा कि अब उन्हें मदद के लिए हाथ चाहिए. फर्स्ट फ्लाइट में काम करने वाले एक कर्मचारी की नियुक्ति की गयी. वह शख्स कोई और नहीं बल्कि अम्बर इयप्पा था.
अम्बर इयप्पा ने बताया कि वह चार साल तक फर्स्ट फ्लाइट में काम किया. अपने करियर की ग्रोथ के लिए वह डिप्लोमा कोर्स की डिग्री हासिल करना चाहते थे. इसीलिए वह डिप्लोमा करने के लिए चले गए. जब वो वापस डिप्लोमा कर के आये तो उन्हें पता चला कि उनकी नौकरी छीन गयी है.

किसी परिचित के माध्यम से उन्हें पता चला कि सचिन व बिन्नी बंसल ने एक नयी कंपनी खोली है. सचिन बंसल बताते है कि उस समय उन्हें एक ऐसे इंसान की जरूरत थी ,जो हल्की -फुल्की अंग्रेजी बोल लेता हो और कंप्यूटर की थोड़ी-बहुत जानकारी हो. अंतत : फ्लिपकार्ट ने इयप्पा को 8,000 रुपये में रखा.
सचिन बंसल उन दिनों को याद कर बताते है कि कैसे उन्हें मात्र एक -दो दिन में इय्पपा की उपस्थिति महसूस होने लगी. उन्होंने बताया कि हमलोग 10-12 प्रकाशकों के साथ काम कर रहे थे. हमारी बिजनेस बढ़ती जा रही थी.

अब हम हर दिन 100 आर्डर ले रहे थे. इयप्पा ने इस काम को एक चुनौती के रूप में लिया. उन्हीं दिनों बिन्नी फ्लिपकार्ट का ऑपरेशन संभाल रहे थे और सचिन बिजनेस से जुड़े टेक्नोलॉजी को देख रहे थे. सचिन बंसल बताते है कि इयप्पा को आर्डर संबंधी हर चीज याद रहती थी.
इय्प्पा ने जब अपनी नौकरी का पहला महीना पूरा कर लिया, तो कंपनी ने उसे 5,000 का बोनस भी दिया. उन दिनों सचिन व बिन्नी हाथ से लैबलिंग और पैकेजिंग करते थे.

टेक्नोलॉजी बाद में आयी थी. बिन्नी का मानना है कि इयप्पा के बाद उन दोनों के 80 प्रतिशत काम कम हो गये. आपको बता दें कि उनके पास कंपनी के ई-शॉप्स यानी शेयर है. इन शेयरों की कीमत अब करोड़ों में है. इस लिहाज वह करोड़पति बन गए है.
इय्प्पा अभी भी कंपनी में काम कर रहे है. फिलहाल उनकी सैलरी 6 लाख रुपये महीना है और वह कस्टमर एक्सपीयरेंस मैनेजमेंट डायरेक्टर के पद पर है. वह अभी भी अपनी सुजुकी एक्सेस 125 स्क्टूर पर चलना पसंद करते है.

Durgesh Gupta

Chief Editor

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *