खरई आरटीओ वैरियर पर वाहन चालकों से हो रही है अवैध वसूली*

*-5 हजार का चालान काटने का भय दिखाकर हो रही है वसूली*

*-बाहर से लाए गए कटरों की हर स्थान पर रहती है नजर*

शिवपुरी
1 जुलाई से जीएसटी लागू किए जाने के बाद से केन्द्र सरकार ने देश और प्रदेश में संचालित वाणिज्य कर वैरियर व अन्य कर एवं परिवहन वैरियरों को बंद कर दिया गया है। बावजूद इसके शिवपुरी जिले में मप्र, राजस्थान बोर्डर से लगे खरई वैरियर पर बडे ही बेखौफ अंदाज में परिवहन विभाग द्वारा अवैध वसूली की जा रही है। यहां पर वसूली के लिए लगभग एक दर्जन से अधिक कटरों को बाहरी जिले से लाकर तैनात किया गया है। खरई वैरियर प्रभारी शशि भारद्वाज और उनके पुत्र के संरक्षण में इस काले कारोबार को अंजाम दिया जा रहा है। ऐसा नहीं कि यहां चल रही अनियमितताओं की जानकारी शिवपुरी आरटीओ विक्रमजीत सिंह कंग को न हो। यह पूरा मामला उनकी जानकारी में होने के बाद भी आरटीओं का चुप्पी साधकर बैठना कई सवालों को जन्म देता है। वैरियर पर हो रही अवैध वसूली के एक से अधिक ऐसे मामले सामने आए है। जिसमें वाहन चालकों को मोटी राशि के चालान का भय दिखाकर उन्हें धमकाते हुए वसूली की गई हो।
प्राप्त जानकारी के अनुसार हरीश कुमार बजाज पुत्र तिलकराज बजाज उम्र 53 साल निवासी कोटा राजस्थान बीते रोज अपने वाहन को गुजरात से लेकर बिहार ले जा रहे थे। इनका वाहन जब खरई वैरियर पर पहुंचा तो यहां पहले उनके वाहन की 120 रूपए की कांटा पर्ची काटी गई। कांटा पर्ची कटने के बाद जब वाहन चालक ने यहां से आगे की ओर जाने का प्रयास किया तो इसके वाहन को वैरियर पर तैनात कटरों ने रोक लिया और वाहन चालक से कहा कि पहले अपने वाहन के कागजों की जांच कराओ इसके बाद ही तुम्हारी गाड़ी आगे जा पाएगी। वाहन चालक हरीश बजाज जब आरटीओ वैरियर पर अपनी गाड़ी के दस्तावेज लेकर पहुंचा तो वहां अंदज बैठे व्यक्तियों ने उससे अवैध वसूली के तौर पर 200 रूपयों की मांग की। जब हरीश बजाज ने इन्हें 200 रूपए देने से इंकार किया तो उन्होंने वाहन चालक को धमकाते हुए अंदाज में कहा कि अगर उक्त राशि नहीं देगा तो उसके वाहन का 5 हजार रूपए का चालान काट दिया जाएगा। वाहन चालक हरीश बजाज 5 हजार रूपए का चालान कटवाने के लिए जिद पर अड़ गया। उसका कहना था कि आप चालान काट दो लेकिन वह अवैध वसूली के 200 रूपए नहीं देगा। वाहन चालक की यहां आरटीओ वैरियर पर पदस्थ कर्मचारी एवं कटरों से 5 हजार रूपए का चालान कटवाने के लिए लगभग 20 मिनिट तक खासी बहस हुई लेकिन वैरियर पर मौजूद कर्मचारी एवं कटरों ने उनका चालान नहीं काटा। बाद में चालक पर दबाव बनाकर उससे अवैध वसूली के तौर पर 200 रूपए ले लिए गए। तब कहीं जाकर हरीश बजाज के वाहन को आगे की ओर जाने दिया। वैरियर पर मौजूद कर्मचारी, कटरों की हरीश बजाज से जब बहस चल रही थी इस बीच यहां पर आए अन्य वाहन चालकों से भी अवैध वसूली के तौर पर 200 से लेकर 500 रूपए तक वसूले गए।
*मेरा भारत महान की सील के नाम पर हो रही है अवैध वसूली*
इस वैरियर से गुजरने वाले वाहनों की कांटा पर्ची परिवहन विभाग के वैरियर पर दिखाई जाती है। परिवहन कार्यालय में अंदर बैठे कर्मचारी व कटरों द्वारा इस कांटा पर्ची पर मेरा भारत महान के नाम की एक सील लगाई जाती है। यह सील वाहन चालक से अवैध वसूली किए जाने के बाद लगाई जाती है। वैरियर के बाहर
की ओर बैठे कटर कांटा पर्ची पर जब इस सील को देख लेते है उसके बाद ही वह वाहनों को आगे की ओर निकलने देते है अन्यथा की स्थिति कोई भी वाहन बिना सील लगवाए यहां से आगे की ओर नहीं निकल सकता।
*प्रभारी पुत्र के अंडर में होती है वसूली*
खरई आरटीओ वैरियर पर प्रभारी के रूप मेें शशि भारद्वाज तैनात है, जिनका पद हवलदार का बताया जाता है। सूत्रों का कहना है कि हवलदार वाहनों की जांचपड़ताल नहीं कर सकता। इसके लिए आरटीओ अधिकृत होते है। लेकिन इस वैरियर पर प्रभारी शशि भारद्वाज है जिसके चलते उनके द्वारा यहां से गुजरने वाले वाहनों के कागजों की जांच पड़ताल की जाती है और उनके पुत्र द्वारा वाहन चालकों से अवैध वसूली कराई जाती है। सूत्रों का कहना है कि इस आरटीओ वैरियर पर वसूली के लिए दतिया और उन्नाव से लगभग एक दर्जन कटरों को बकायदा नौकरी पर रखा गया है जिनके द्वारा वाहन चालकोंं पर दबाव बनाकर उनसे वसूली की जाती है। रात्रि के समय इस वैरियर पर शशि भारद्वाज मिले या न मिले लेकिन उनका पुत्र जरूर यहां मौजूद रहता है। यहां बता दें कि शशि भारद्वाज इस वैरियर पर पूर्व में दो बार और भी पदस्थ रहे चुके है। अपुष्ट सूत्रों की माने तो शिकायतों के चलते उन्हें पूर्व में यहां से हटाया गया था। लेकिन अब तीसरी बार भी उन्हें इसी वैरियर पर पदस्थ कर दिया गया है।
*कट्टू वाहन निकासी के लिए अलग से लगे हैं चार कटर*
खरई वैरियर से गुजरने वाले कट्टू वाहनों की निकासी के लिए एक समूदाय विशेष के चार कटरों को अलग से रखा गया है। सूत्रों की माने तो ये चारों कटर सिर्फ राजस्थान की ओर से आने वाले एवं मप्र से राजस्थान की ओर जाने वाले कट्टू वाहनों की निकासी का कार्य देखते है। यहां बता दें कि खरई वैरियर से पूर्व में भी कट्टू वाहन निकासी का मामला खासा तूल पकड़ा था।
*चप्पे-चप्पे पर रहती है कटरों की नजर*
खरई वैरियर के दोनों ओर कटर बैठे रहते है जिनकी नजर वैरियर पर आने वाले हर व्यक्ति के साथ-साथ कारों पर भी रहती है। जैसे ही इन्हें कोई ऐसा व्यक्ति या कार जो यहां चल रही अवैध वसूली में बाधा डाल सके, आता दिखाई देता है तो वह तत्काल इसकी सूचना परिवहन विभाग के अंदर बैठे कर्मचारी एवं कटरों को कर देते है। सूचना मिलने के बाद यहां कोई व्यक्ति या कार पहुंचे उससे पूर्व ही ट्रक चालकों को साईट से एक तरफ खड़ा कर दिया जाता है और अवैध वसूली रोक दी जाती है। आरटीओ वैरियर के जिस स्थान पर ट्रक चालकों से वसूली होती है उस स्थान पर भी एक से अधिक कटर वाहन चालकों पर नजर रखते है कि कहीं कोई अवैध वसूली की रिकॉडिंग तो नहीं कर रहा। इसके अलावा एक काले रंग की कार वैरियर के दोनों ओर 15 किमी के दायरे में घूमती रहती है। बताया जाता है कि इस कार में भी कटर मौजूद रहते है और उनके द्वारा भी यहीं नजर रखी जाती है कि कहीं कोई अवैध वसूली में व्यवधान तो आने वाला नहीं है।
*इनका कहना है*
वैरियर पर चल रही अवैध वसूली के मामले में शिवपुरी आरटीओ का कहना है कि उन्हें अभी वसूली की कोई शिकायत नहीं मिली है। वहां क्या चल रहा है, वह इस बात की जानकारी लेंगे।
*विक्रमजीत सिंह कंग*
*आरटीओ शिवपुरी*

Durgesh Gupta

Chief Editor

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *