भारत बचाओ महा रथ यात्रा के संयोजक सुरेश चौहान ने म.प्र. के प्रभारी सतीश को दिल्ली में किया सम्मानित

दिल्ली के रामलीला मैदान में भारत बचाओ कश्मीर से कन्या कुमारी तक यात्रा के समापन समारोह में भारत बचाओ महा रथ यात्रा के संयोजक सुरेश चौहान ने राष्ट्र निर्माण यात्रा के मध्यप्रदेश प्रभारी शिवपुरी निवासी सतीश श्रीवास्तव को दिल्ली में सम्मानित किया !

नई दिल्ली :जिस तरह से कश्मीर में हिन्दुओं पर अत्याचार हुए तथा उन्हें पलायन करना पड़ा, जिस तरह से कैराना से हिन्दुओं को पलायन करना पड़ा, जिस तरह से पश्चिम बंगाल, केरल तथा देश में कई अन्य जगहों पर कुछ मजहबी आक्रान्ताओं द्वारा हिन्दुओं का दमन हुआ तथा अभी भी हो रहा है, उससे साग संकेत मिल रहे हैं कि हिन्दुस्तान एक बार दिर से गुलामी की तरफ बढ़ रहा है,
मुगलिया सल्तनत की तरफ बढ़ रहा है. हिंदुस्तान की सभ्यता, संस्कृति पर होते इन अत्याचारों को राष्ट्र निर्माण संस्था के अध्यक्ष श्री सुरेश चव्हाणके जी सह न सके तथा देश को बचाने के लिए, हिंदुस्तान को मुगलिस्तान/पाकिस्तान बनने से बचाने के लिए देश में अलख जगाने के लिए निकल पड़े. हिंदुस्तान को बचाने के लिए “हम दो हमारे दो तो सबके दो” के मिशन के साथ 18 जनवरी को जम्मू से शुरू हुई 20 हजार किलोमीटर की 70 दिवसीय भारत बचाओ महारथ यात्रा आज अपने अंतिम पड़ाव पर देश की राजधानी दिल्ली पहुँची जहाँ रामलीला मैदान में यात्रा की पूर्णाहुति हुई.
यात्रा के समापन समारोह को संबोधित करते हुए श्री सुरेश चव्हाणके जी ने कहा कि जब वह यात्रा को लेकर निकले थे तो उन्हें संशय था कि देश की जनता इस मिशन का साथ देगी या नहीं लेकिन यात्रा के शुरू होते ही सारे कयास, सारे संशय दूर गये जब देश की जनता ने इस यात्रा को हाथों हाथ लिया तथा उम्मीद से कही ज्यादा सहयोग तथा समर्थन दिया. उन्होंने कहा कि राष्ट्र रक्षा, राष्ट्र सेवा से बड़ा कुछ नहीं है बस यही सोचकर वह यात्रा लेकर निकले थे.
श्री चव्हाणके जी ने कहा कि देश में बेतहाशा बढ़ती हुई जनसँख्या को अगर नहीं रोका गया तो वो दिन दूर नहीं जब हिंदुस्तान का मूल स्वरूप मिट जायेगा तथा अपना प्यारा हिंदुस्तान गजवा-ए-हिन्द बन जायेगा. उन्होंने कहा कि इस बढ़ती हुई आवादी में सर्वाधिक जनसंख्या मुस्लिम समुदाय की है. उन्होंने कहा कि अगर इसी गति से मुस्लिम समुदाय की जनसँख्या बढ़ती रही तो 2029 के बाद हिन्दुस्तान का प्रधानमंत्री कोई हिन्दू नहीं बन पायेगा. उन्होंने कहा कि इस देश की मूल सभ्यता बनी रहे, इस देश की मूल पहिचान, मूल संस्कृति बनी रहे इसके लिए जरूरी है कि देश में जनसँख्या असंतुलन को रोका जाये तथा हर वर्ग हर समुदाय के लिए दो बच्चों का कानून लाया जाये. श्री चव्हाणके जी ने कहा कि पूरे देश की यात्रा करके उन्होंने 10 करोड़ से ज्यादा लोगों के हस्ताक्षर इकट्ठे किये हैं तथा इन हस्ताक्षरों को वह देश के प्रधानमन्त्री मोदी जी को सौंपेगे तथा कहेंगे कि मोदी इस देश में लोकतंत्र है और लोकतंत्र जनता का होता है,
जनता के लिए होता है और अब देश की जनता ने आपको ये हस्ताक्षर भेजे हैं तथा इसके माध्यम से देश की जनता अब दो बच्चों का कानून मांग रही है
. उन्होंने कहा कि उन्हें विश्वास है कि प्रधानमन्त्री जी देश की जनता की भावनाओं को समझेंगे तथा ये कानून लायेंगे. अपने संबोधन के अंत में श्री सुरेश चव्हाणके जी ने देश की जनता का धन्यवाद करते हुए कहा कि देश विरोधी ताकतों ने इस यात्रा को रोकने के तमाम प्रयास किये लेकिन हिंदुस्तान की राष्ट्रवादी जनता की दृढ इच्छाशक्ति तथा बुलंद हौंसलों के आगे सारी आसुरी ताकतें ध्वस्त हो गयी तथा जनता के इसी प्यार, समर्थन तथा हौसले के दम पर आज यात्रा अपने अंतिम पडाव दिल्ली पहुँची है तथा सफल हुई है. उन्होंने कहा कि जनता की ये मेहनत व्यर्थ नहीं जायेगी तथा जनसंख्या नियंत्रण क़ानून आएगा.

Durgesh Gupta

Chief Editor

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *