भोपाल में बोले अमित शाह: एमपी में चुनाव जीतकर दिखाएं राहुल ,कांग्रेस ने दुनियाभर में हिंदू संस्कृति को बदनाम किया

भोपाल में बोले अमित शाह: एमपी में चुनाव जीतकर दिखाएं राहुल ,कांग्रेस ने दुनियाभर में हिंदू संस्कृति को बदनाम किया

भोपाल -भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने कहा कि कांग्रेस ने हिन्दू संस्कृति को बदनाम करने का काम किया है। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को सनातन संस्कृति को दुनिया भर में बदनाम करने के मामले में हिन्दुओं और देश से माफी मांगना चाहिए ।
शाह ने दिया मप्र चुनाव में जीत का मंत्र

भाजपा अध्यक्ष ने कार्यकर्ताओं से कहा कि हमें संगठन में काम करते हुए जन-जन तक पहुंचना होगा। बूथ लेवल पर काम करना होगा। मप्र में भाजपा के एक करोड़ से ज्यादा कार्यकर्ता हैं। इनमें से 65 लाख कार्यकर्ताओं का हमारे पास पूरा डाटा है। अगर 65 लाख कार्यकर्ता 5 दिन भी चुनाव प्रचार करते हैं तो जीत से कोई नहीं रोक सकता।

शाह ने खुलकर शिवराज सिंह सरकार के कामकाज की तारीफ की। इससे पहले कुछ शिवसैनिकों ने अमित शाह के दौरे का विरोध करते हुए उन्हें काले झंडे दिखाए।

कांग्रेस ने चुनाव में राजा-महाराजाओं की टीम उतरी

शाह ने कहा, ”राहुल गांधी को मैं बताना चाहता हूं कि मप्र भाजपा का गढ़ है। यहां हमारी पैठ अंगद के पैर के जैसी है। भाजपा गरीबों की बात करती है और आप राजा-महाराजा की। अब की बार लड़ाई कॉर्पोरेट और किसानों के बीच है। कांग्रेस राजा-महराजाओं को लेकर चुनाव मैदान में उतरी है, उनसे डरने की जरूरत नहीं,क्योंकि हमारा बूथ कार्यकर्ता भी राजा-महाराजा को हराने की ताकत रखता है।

”नरेंद्र मोदी वरदान की तरह हैं: शिवराज

– मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने कहा कि हमारे प्रधानमंत्री देश ही नहीं दुनिया के सबसे लोकप्रिय नेता हैं। मोदी जी देश के लिए ईश्वर का वरदान हैं। गरीबों, विकास के लिए जितनी तड़प मोदी जी में है, शायद किसी नेता में हो।

कांग्रेस जातियों को बांटने का काम कर रही

शाह ने आरोप लगाया कि राहुल गांधी और कांग्रेस के दूसरे नेता देश को धर्म और जाति के नाम पर बांटने का प्रयास कर रहे हैं। शाह ने कहा कि कांग्रेस नेताओं को संवैधानिक संस्थाओं पर भी विश्वास नहीं है। चुनाव आयोग, न्यायपालिका जैेसी संस्थाओं को भी बदनाम करने की नीयत से उन पर हमले कर रहे हैं। लेकिन, वे अभी तक अपने मंतव्य में सफल नहीं हो पाए हैं। उन्होंने कहा कि पिछड़ा वर्ग आयोग को भाजपा संवैधानिक दर्जा देना चाहती थी लेकिन मप्र के ही राजे-महाराजे खिलाफ में खड़े हो गए।

Durgesh Gupta

Chief Editor

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *