मंडी में फसल बेचने आए किसान की 22 बोरी सरसों में से 10 बोरी चोरी,हुआ हंगामा

प्रतिकात्मक चित्र

किसान ने पुलिस को दिया शिकायती आवेदन तो वापस मिला चोरी गया माल

शिवपुरी मंडी में बड़े पैमाने पर हो रहा है किसानों का शोषण

शिवपुरी
किसानों का माल चोरी किए जाने के मामले में जिलेभर में प्रचारित शिवपुरी मंडी में आज उस समय हंगामा पूर्ण स्थिति निर्मित हो गई जब एक किसान की ट्रॉली से हम्मालों ने 10 बोरी सरसों गायब कर दी। किसान का माल गायब होने के बाद मंडी में आसपास के क्षेत्र से अपनी फसल बेचने आए सभी किसान एकजुट हो गए और उन्होंने जमकर मंडी प्रबंधन के खिलाफ नारेबाजी कि,देखते ही देखते मामला कोतवाली जा पहुंचा। पुलिस कार्रवाई की चपेट में खुद को आया देख हम्मालों ने किसान की गायब की गई 10 बोरी सरसों को वापस कर दिया तब कहीं जाकर यह मामला शांत हो सका।

प्राप्त जानकारी के अनुसार एक ही परिवार के गोलू कुशवाह,राहुल कुशवाह,बलबंत कुशवाह,धर्मेंद्र कुशवाह निवासीगण लखनगवां आज तीन ट्रॉली सरसों लेकर कृषि उपज मंडी शिवपुरी में आए हुए थे इनकी दो ट्रॉली सरसों सौरभ नामक फर्म द्वारा खरीदी गई जबकि एक ट्रॉली सरसों प्रतीक कुमार बंसल की फर्म ने खरीदी। किसान धर्मेंद्र सिंह कुशवाह का कहना है कि उसकी ट्रॉली में लगभग 22 बोरी सरसों भरी हुई थी। जब इस सरसों को मंडी के हम्मालों द्वारा तोला जा रहा था उसी समय उन्होंने इस 22 बोरी सरसों में से 10 बोरी गायब कर दी।

ट्रॉली से लगभग 9 क्विंटल सरसों गायब देख किसान धर्मेंद्र कुशवाह और उसके परिजन भड़क उठे,उन्होंने मंडी में हंगामा खड़ा कर दिया इनका कहना था कि उनकी ट्रॉली में 22 बोरी सरसों थी लेकिन हम्मालों ने उक्त सरसों में से 10 बोरी गायब कर दी।देखते ही देखते मामला तूल पकड़गया और मंडी में आये अन्य किसान भी पीड़ित किसान के साथ खड़े हो गए और हम्मालों की कोतवाली पुलिस को शिकायत किये जाने का निर्णय लिया गया।मामला पुलिस तक पहुँचने की बात सुनते ही हम्मालों का पसीना छूट गया और हम्मालों के इशारे पर कुछ लोग मामला समाप्त कराने की पहल लेकर किसान के पास आये और आनन फानन में गायव सरसों की बोरियों में से 4 बोरी सरसों किसान को बापिस कर दी गईं।

लेकिन किसान अपनी शेष 6 बोरी सरसों लेने के लिए अड़ा रहा और यह मामला शांत नहीं हो सका। कुछ समय बाद मंडी में मनीष कुशवाह नामक एक युवक आया जो कि खुद को मंडी उपाध्यक्ष कैलाश कुशवाह का भतीजा बता रहा था। मनीष कुशवाहा द्वारा किसान को शांत रहने की बात कही गई जिस पर किसान धर्मेंद्र कुशवाह एवं उसके परिजन और भड़क उठे इनका कहना था कि हमारा जो माल चोरी गया है वह हमें पूरा वापस चाहिए अन्यथा की स्थिति में हमारे द्वारा पुलिस में शिकायत दर्ज कराई जाएगी।

मंडी में लगभग 2 घंटे चलें हंगामे के बाद भी जब उक्त किसान को उसकी शेष 6 बोरी सरसों वापस नहीं मिली तो ट्रॉली से बोरियों में नीचे भरकर रखी गई सरसों को उन्होंने पुनः ट्रॉली में भर लिया और कोतवाली पुलिस को इस घटना की शिकायत करने जा पहुंचा उधर घटना की जानकारी लगते ही कोतवाली पुलिस भी मंडी आ गई बताया जाता है कि धर्मेंद्र कुशवाह द्वारा इस घटना की जैसे ही लिखित शिकायत पुलिस को की गई तो मंडी से जुड़े कुछ लोग कोतवाली आ गए जिन्होंने उक्त किसान को समझाइश दी और उसे उसकी शेष 6 बोरी सरसों वापस कराई तब कहीं जाकर यह मामला शांत हो सका।

30 हजार की सरसों चोरी होना गंभीर वारदात

इससे बढ़कर कृषि उपज मंडी में कृषकों का शोषण क्या हो सकता है कि एक कृषक महज 65 हजार की सरसों बेचने के लिए मंडी में आया और हम्मालों ने 65 हजार की सरसों में से 30 हजार की सरसों उड़ा दी। इतनी बडी गंभीर वारदात के प्रति शासन और प्रशासन को संज्ञान लेना चाहिए। तभी यह संदेश जाएगा कि प्रदेश की सरकार किसान हितैषी सरकार है।

इनका कहना है
मण्डी वाले मामले में धर्मेंद्र कुशवाह नामक किसान द्वारा आवेदन दिया गया था। जिसमें मण्डी हम्मालों पर माल चोरी किए जाने के आरोप लगाए थे। आवेदन के बाद जब हम मण्डी गए तो उक्त आवेदक ने लिखित में दिया कि वह इस मामले में कोई कार्यवाही नहीं चाहता है।
नरेंद्र शर्मा
उपनिरीक्षक थाना कोतवाली

इनका कहना है
मण्डी में से तोल के समय हमारा जो माल चोरी गया था हमें वह पूरा माल वापस मिल गया है। अब हम इस मामले में कार्यवाही नहीं चाहते।
धर्मेंद्र कुशवाह
किसान

इनका कहना है
आज मैं मण्डी में नहीं था, कुछ विवाद हुआ है इस बात की जानकारी मिली थी। मैं इस्पेक्टर से पूरा मामला समझ रहा हूं। अगर कुछ गलत हुआ है तो कार्यवाही की जाएगी।
आरके गोस्वामी
मण्डी सचिव शिवपुरी

Durgesh Gupta

Chief Editor

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *