मतदाता सूची में नाम जोड़ने एवं काटने की कार्यवाही पूरी पारदर्शिता के साथ करें- श्रीमती गुप्ता

मतदाता सूची में नाम जोड़ने एवं काटने की कार्यवाही पूरी पारदर्शिता के साथ करें- श्रीमती गुप्ता
कलेक्टर ने बीएलओ की बैठक में दिए निर्देश

www.samaykhabar.com

शिवपुरी- कलेक्टर श्रीमती शिल्पा गुप्ता ने मतदाता सूचियों के अद्यतीकरण (अपडेशन) हेतु डोर टू डोर चल रहे कार्य की प्रगति की समीक्षा करते हुए बीएलओ (बूथ लेवल आॅफिसर) को निर्देश दिए कि इस कार्य को पूरी गंभीरता के साथ लें और भारत निर्वाचन आयोग के दिशा-निर्देशों के अनुरूप मतदाता सूची के अद्यतीकरण कार्य के तहत नाम जोड़ने एवं काटने की कार्यवाही में पारदर्शिता रखते हुए पूरी सावधानी बरतें।
श्रीमती शिल्पा गुप्ता आज शासकीय श्रीमंत माधवराव सिंधिया स्नातकोत्तर महाविद्यालय शिवपुरी में नवम्बर एवं दिसम्बर 2018 में विधानसभा निर्वाचन और वर्ष 2019 में होने वाले लोकसभा निर्वाचन को मद्देनजर रखते हुए मतदाता सूचियों का अद्यतीकरण कार्य के तहत बीएलओ द्वारा किए जा रहे डोर टू डोर कार्य की प्रगति की समीक्षा बैठक को संबोधित कर रहीं थीं। कार्यक्रम में डिप्टी कलेक्टर श्री यू.एस.सिकरवार सहित संबंधित अधिकारी एवं बीएलओ उपस्थित थे।
कलेक्टर श्रीमती शिल्पा गुप्ता ने मतदाता सूचियों के अद्यतीकरण हेतु बीएलओ द्वारा किए जा रहे डोर टू डोर सर्वें की समीक्षा करते हुए कहा कि बीएलओ इस कार्य को पूरी गंभीरता के साथ लें। सर्वे के दौरान जो 17 बिन्दुओ की चेक लिस्ट प्रदाय की गई है, उसके अनुरूप मतदाता सूची से नाम काटने एवं जोड़ने की भी कार्यवाही करें। जिससे त्रुटिपूर्ण मतदाता सूची तैयार की जा सके। उन्होंने कहा कि बीएलओ के कार्य के कार्य का जिला स्तरीय अधिकारियों के माध्यम से सुपरवीजन कराया जाएगा। मतदाता सूची में गड़बड़ी की शिकायत प्राप्त होने पर संबंधित बीएलओ के विरूद्ध कार्यवाही की जाएगी।
श्रीमती गुप्ता ने कहा कि डोर टू डोर सर्वे में नाम काटने के संबंध में बीएलओ निर्धारित फार्म 7 में जानकारी प्राप्त करने की कार्यवाही करेंगे। इस दौरान पंचनामा भी बनाया जाएगा। प्रत्येक मतदाता के नाम काटने की पृथक से फाईल भी संधारित की जाएगी। उन्होंने बताया कि डोर टू डोर सर्वे में ऐसे मतदाता जिनकी मृत्यु हो गई है। किसी अन्य स्थान पर चले गए है या अनुपस्थित है। उनके नाम काटने की कार्यवाही स्थानीय लोगों के पंचनामा के आधार पर की जाए। फोटोयुक्त मतदाता परिचय पत्र (ईपीक) का नम्बर एक से अधिक मतदाता के नाम से दर्ज न हो। एक मतदाता का फोटो अलग-अलग नाम से अन्य स्थानों पर न हो। इसका भी डोर टू डोर कार्य के तहत विशेष ध्यान रखा जाए। श्रीमती गुप्ता ने कहा कि मतदाताओं की सुविधा को ध्यान में रखते हुए मतदान केन्द्र अधिक दूर न हो। इसके लिए नजदीक के मतदान केन्द्रों का भी परीक्षण कर लें।

Durgesh Gupta

Chief Editor

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *