शक्तिशाली महिला संगठन नें किया विश्व स्तनपान सप्ताह के तहत जिला स्तरीय जागरूकता सेमिनार का आयोजन

शक्तिशलाी महिला संगठन ने किया विश्व स्तनपान सप्ताह के तहत जिला स्तरीय जागरुकता सेमिनार
एक सैकड़ा से अधिक जच्चा बच्चा एवं महिलाओं को किया जागरुक

जन्म के तुरन्त बाद स्तनपान बच्चे के जीवन का आधार -कहा मुख्य अतिथि डा. ए.एल.षर्मा
स्तनपान से संबधित सबाल जबाब प्रतियोगिता भी आयोजित एवं उपहार वितरित

शिवपुरी । विश्व स्तनपान सप्ताह पूरी दुनिया में 1 अगस्त से 7 अगस्त तक मनाया जा रहा हैं इसके अन्तर्गत शक्तिशाली महिला संगठन शिवपुरी , स्वास्थ्य विभाग एवं महिला बाल विकास विभाग ने संयुक्त रुप से जिला चिकित्सालय में स्तनपान जीवन का आधार विषय पर जिला स्तरीय कार्यक्रम आयोजित किया कार्यकम के बारे में अधिक जानकारी देते हुये कार्यकम संयोजक रवि गोयल ने बताया कि संस्था विगत 12 वर्षो से स्तनपान सप्ताह मना रही हैं क्यो कि पहले छः महिनों तक पूर्णतः स्तनपान कराने से शिशु स्वस्थ्य रहता हैं ।

और पूर्ण सक्षमता के साथ उसके विकास को सुनिश्चित करता है। ऐसा करने से शिशु और माता दोंनो का लाभ होता हैं क्योकि मां का पहला गाढ़ा दूध जिसे खीस या कोलोेस्ट्रम कहते हैं यह शिशु को पोषण प्रदान करता हैं इसकी कुछ बंूदे ही पर्याप्त होती हैं जो कि अमृत के समान हैं इसके तहत जिला चिकित्सालय में जिला स्तरीय जागरुकता सह सबाल जबाब प्रतियोगिता कार्यक्रम आयोजित किया गया जिसमें कि मुख्य अतिथि डा. ए.एल.षर्मा, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी ने कहा कि प्रत्येक नवजात को जन्म के तुरन्त बाद पहला पीला गाढ़ा दूध जो की बच्चे के जीवन का आधार हैं ।

उसको जरुर पिलाना चाहिये तााकि कोई भी बच्चा मां के अमृृत से बंचित न रहे । विषिष्ट अतिथि डा. गोविन्द सिंह ने कहा कि जो मां 6 माह तक सिर्फ और सिर्फ स्तनपान कराती हैं उनके बच्चे और बच्चाों की तुलना में कम बीमार होते है। उनको मानसिक एवं शरीरिक विकास सही तरीके से होता है। और अस्पताल में हम यह सुनिष्चत करते हैं कि बच्चे को एक घण्टे के भीतर मां का पहला पीला गाढ़ा दूध पिला दिया जाये उसके बाद ही हम वार्ड में जच्चा को षिफ्ट करते है। विषेष अतिथि जिला कार्यक्रम अधिकारी महिला बाल विकास , ओपी पाण्डेय ने कहा कि सभी महिलाये आईसीडीएस सेवाओं का लाभ लें और नियमित आंगनवाड़ी आये और अपने आस पास के लोगों को स्तनपान के बारे में जानकारी साझा करें । जो माताऐ शिशु को जन्म के पहले घण्टे में स्तनपान शुरु कर देती है उनके पास अपने शिशुओं को पहले छः माह तक सफलतापूर्वक और पूर्णतः स्तनपान कराने के व्यापक अवसर बढ़ जाते हैं । कार्यक्रम को जिला परिवार कल्याण अधिकारी डा0 एनएस चैहान ने भी संबोधित किया उन्होने कहा कि दो बच्चों में कम से कम तीन साल का अन्तर रखें और स्वास्थ्य विभाग की परिवार कल्याण कार्यक्रम योजनाओं का लाभ अवष्य लें। कार्यक्रम में संस्था के सौजन्य से स्तनपान से संबधित सबाल जबाब प्रतियोगिता भी रखी गयी जिसमें कि स्तनपान कब क्यो कैसे और टीकारण के बारे में प्रष्न पूछे एवं 10 सही जबाब देने वाली जज्चाओं को महत्पूर्ण संदेष बाला बेग उपहार स्वरुप भेंट किया। संस्था की टीम ने जिला चिकित्साल के जच्चा वार्ड में स्तनपान से संबधित बैनर एवं पोस्टर लगाये ।
कार्यकम में सीडीपीओ श्रीमती नीलम पटेरिया, डीपीएम डा षीतल ब्यास,सुनील जैन, आईसीडीएस की पर्यवेक्षक श्रीमती मधु यादव, निवेदिता मिश्रा, श्रीमती शषि अग्रवाल, डा, रेखा श्रीवास्तव, टीम ब्रेस्ट फीडिंग काउंसिलिग षिवपुरी से रवि गोयल, मोहित सिंघल, श्रद्धा जादौन, जीनत खान, झूलाघर से राधा अग्रवाल के साथ 100 से अधिक महिलाऐ बच्चे एवं जिला चिकित्सालय का स्टाफ उपस्थित था। कार्यक्रम का संचालन एवं आभार प्रदर्षन रवि गोयल ने किया।

Durgesh Gupta

Chief Editor

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *