शिवपुरी में मीट की बढ़ती चल दुकानों के प्रति प्रशासन ने ओढ़ी चुप्पी

भगवान महावीर जयंती पर स्लॉटर हाऊस और मीट की दुकाने बंद रखने के आदेश का किस हद तक होगा पालन

शिवपुरी: भगवान शिव की नगरी शिवपुरी शहर में बढ़ते स्लॉटर हाऊस और हृदय स्थल माधव चौक एवं नगर के प्रमुख मार्गो पर संचालित चल दुकानों से जनजीवन परेशान और आक्रंात बना हुआ है। खुलेआम बिक रहे मांस से धार्मिक नगरी शिवपुरी का वातावरण दिन प्रतिदिन प्रदूषित होता जा रहा है। लेकिन अवैध रूप से संचालित इन दुकानों के प्रति नगर पालिका की लगातार अनदेखी बनी हुई है।

हालांकि समय-समय पर नागरिकों, विद्यार्थियों और धर्मप्रेमी लोगों द्वारा इस ओर नगर पालिका का ध्यान आकर्षित किया जाता रहा है। लेकिन इसके बावजूद भी न तो बीच शहर में संचालित मीट मार्केट वहां से हटाई जा रही है और न ही चार पाहिए के ठेलों पर खुलेआम मांस बेचने वालों को रोका जा रहा है।

स्थानीय निवासियों ने जिला कलेक्टर से गुहार लगाते हुए अवैध तरीके से संचालित कत्लखानों और मीट की दुकानों पर लगाम कसे जाने की मांग की है। देखना यह है कि 29 मार्च को महावीर जयंती है और शासकीय आदेशानुसार इस दिन अहिंसा के पुजारी भगवान महावीर की जयंती पर मीट की दुकाने और स्लॉटर हाऊस बंद रहते है और प्रशासन ने भी उक्त आशय के आदेश जारी कर दिए है। इसके बाद भी क्या इन आदेशों का पालन होगा? यह एक बडा सवाल है।

शहर में अधिकृत तौर पर संचालित मीट बाजार को वहां से हटाए जाने की आवाज उठाई जाती रही है। मीट मार्केट के लिए झांसी रोड़ पर स्थान नियत किया गया है। लेकिन नगर पालिका मीट मार्केट को वहां शिफ्ट करने में अभी तक असफल साबित हुई है जबकि कमलागंज का यह मार्ग बहुत महत्वपूर्ण है।

इस मार्ग से कॉलेज जाने वाले छात्र-छात्राएं प्रतिदिन गुजरते है। फिजीकल क्षेत्र, मोहनी सागर आदि इलाके में रहने वाले सरकारी कर्मचारियों के लिए भी यहीं मार्ग उपयुक्त है। इसके अलावा शहर के कई आम रास्ते जैसे कि तलाईया मौहल्ला, गुरूद्वारा रोड़, कल्लनशॉप फैक्ट्री, बड़ा बाजार, नबाव सहाव रोड़, फिजीकल रोड़, पुराना प्रायवेट बस स्टेण्ड, पोहरी बस स्टेण्ड सहित दर्जनों स्थानों पर अवैध रूप से मीट की चल दुकाने संचालित की जा रहीं है।

शहर में अनेक कत्लखाने बिना किसी परमिशन के संचालित है। मुस्लिम समुदाय के कई नागरिकों ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि शहर में अघोषित तौर पर संचालित कत्लखानों से स्थिति बिगड़ रही है। इनका कहना था कि कुछ मस्जिदों के आस-पास भी कुछ व्यक्तियों द्वारा बड़े पैमाने पर मीट मण्डी सजाई जा रही है जो कि पूरी तरह से गलत है। एक अन्य व्यक्ति का कहना था मस्जिद के बाहर जितनी भी मीट दुकाने संचालित है वे सभी नियम विरूद्ध और धर्म के विपरीत चलाई जा रही है।

अगर देखा जाए तो शहरभर में लगभग एक सैकड़ा से अधिक ऐसी मीट की दुकाने संचालित है। जिनके पास न तो कोई लांइसेंस है और न ही दुकान संचालित करने की नगर पालिका से किसी तरह की कोई अनुमति ली गई।

शहर के जागरूक नागरिक अवरार खान, आजाद खान, चंगेज पठान, इमरान खान, अभिनंदन जैन व अन्य ने कलेक्टर तरूण राठी से मांग उठाते हुए शहर में संचालित अवैध मीट दुकाने पर लगाम कसे जाने की मांग की है।

Durgesh Gupta

Chief Editor

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *