शिवराज मंत्री मण्डल होगा विस्तार, 5 नये चेहरे हो सकते है शामिल, 2 की होगी छुट्टी

भोपाल| चुनावी साल में कमजोर पड़ रही भाजपा सरकार में मजबूती लाने के लिए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान अपनी टीम में फेरबदल करने वाले हैं| मंत्रिमंडल में 4 से 5 नए चेहरों की एंट्री होगी तो वहीं दो मंत्री की छुट्टी, इसके अलावा तीन राज्यमंत्रियों को भी कैबिनेट का दर्जा मिल सकता है|

शिवराज मंत्रिमंडल विस्तार की खबर से प्रदेश भर में हलचल तेज हुई है| राज्यभवन में इसको लेकर तैयारियां भी शुरू हो गई है| शाम तक नवनिर्वाचित मंत्रियों को सूची भी राज्यभवन पहुँच जायेगी|  राजस्थान में उपचुनाव में आये निराशाजनक परिणामों और आगामी उपचुनाव और विधानसभा के आम चुनावों को देखते हुए यह मंत्रिमंडल विस्तार किया जा रहा है|

यह बन सकते हैं मंत्री, दो की छुट्टी तय

शिवराज सरकार के मौजूदा मंत्रिमंडल में 19 कैबिनेट एवं 9 राज्यमंत्री है। जबकि अधिकतम 34 मंत्री बनाए जा सकते हैं। यदि दो मंत्रियों को बाहर किया जाता है तो फिर 26 मंत्री रह जाएंगे। बाहर होने वाले मंत्रियों में कुसुुम मेहदेले एवं हर्ष सिंह के नाम बताए जा रहे हैं। वहीं मंत्री शरद जैन को भी बाहर किया जा सकता है, स्वास्थ्य संबंधी कारणों के चलते उनकी छुट्टी हो सकती है| शिवराज की टीम में नए चेहरों को मौका मिलेगा| जिनमे नारायण सिंह कुशवाह, इंदौर से सुदर्शन गुप्ता और रमेश मेंदोला, इसके अलावा यशपाल सिसोदिया, रंजना बघेल और मोती कश्यप को भी मंत्री बनाया जा सकता है,

इनके नाम लगभग फाइनल माने जा रहे हाँ, वहीं गुना से विधायक गोपी लाल जाटव को मंत्री बनाया जा सकता है। जिसका फायदा बीजेपी को मुंगावली उपचुनाव में होगा।  नए चेहरों के अलावा दो या तीन मंत्रियों को प्रमोट भी किया जा सकता है और कई मंत्रियों के विभाग भी बदले जा सकते हैं| तीन मंत्रियों विश्वास सारंग, दीपक जोशी और सुरेन्द्र पटवा को कैबीनेट दर्जा मिल सकता है|

शनिवार को होगा मंत्रिमंडल का विस्तार-फेरबदल

शिवराज मंत्रिमंडल का विस्तार शनिवार सुबह 9.30 बजे राजभवन में होगा| राज्यपाल आनंदीबेन ने इसके लिए सहमति दे दी है|  दो विधानसभा उपचुनाव एवं जातिगत व क्षेत्रीय समीकरणों के चलते पिछले चार महीने से टल रहे मंत्रिमंडल का विस्तार मुंगावली एवं कोलारस विस् उपचुनाव से पहले होने जा रहा है।

मंत्रिमंडल विस्तार को लेकर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने 3 महीने पहले विधानसभा के शीतकालीन सत्र के दौरान संकेत दिए थे। इसके दावेदार विधायकों ने दिल्ली से लेकर नागपुर तक जबर्दस्त लॉबिंग की। भाजपा संगठन पदाधिकारी के अनुसार अगले विधानसभा  चुनाव से करीब 8 महीने पहले होने वाला मंत्रिमंडल पूरी तरह से एडजस्टमेंट वाला होगा। जिसमें क्षेत्रीय, जातीय समीकरणों का पूरा ध्यान रखा जाएगा।

 

जातियों को साधने होगा मंत्रिमंडल विस्तार

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने शुरू के मंत्रिमंडल में 23 मंत्रियों को शपथ दिलाई। इसके बाद 20 जून 2016 को किए गए विस्तार में 4 कैबिनेट एवं 5 राज्य मंत्री समेत 9 अन्य मंत्रियों को शपथ दिलाई। इसी दौरान दो मंत्री बाबूलाल गौर एवं सरताज सिंह को उम्र का हवाला देकर बाहर का रास्ता दिखाया गया। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने अपने तीसरे कार्यकाल के 4 साल 1 महीना बिता दिए हैं।

शेष कार्यकाल के लिए वे दूसरी बार मंत्रिमंडल फेरबदल एवं विस्तार की तैयारी कर चुके हैं। यह फेरबदल पूरी तरह से जातियों एवं क्षेत्रीय समीकरणों में तालमेल बैठाने के लिए होगा। जिसमें ऐसी जातियों के विधायकों को भी तवज्जो मिलेगी, जिनका सत्ता और संगठन में प्रतिनिधित्व कम है।

Durgesh Gupta

Chief Editor

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *