​राष्ट्रीय पक्षी मोर का हुआ शिकार,शिकारी हुए फरार

                         प्रतिकात्मक चित्र

ग्रामीणों ने दी सूचना,2घंटे देरी से पहुचा अमला

अभिषेक शर्मा/पोहरी:- पोहरी क्षेत्र में इन दिनों पशु-पक्षियों के शिकारों में लगातार बढ़त मिल रही है जहाँ एक तरफ बन-बिभाग द्वारा लगातार बन पशु-पक्षियों की सुरक्षा की बात करता है बही उसी क्रम में पोहरी बन परिक्षेत्रक्षेत्र के अंतर्गत शिकार के मामले मिलते जा रहे है जहाँ कई मामलों को मिलिभगत कर दबा दिया जाता है,कल दरमियानी शाम करीव 4 बजे ग्राम बमरा में 2 शिकारियों द्वारा आश्रम में मोरो का शिकार किया जैसे ही आश्रम में साधु को इस बात की भनक लगी तो साधु द्वारा शिकारियों का पीछा किया और शिकारी आनन-फानन में एक मोर को ले भागे बही गाँव मे जब इस बात का पता चला तो ग्रामीणों ने डायल 100 को सूचना  दी बही पोहरी रेंजर केपी एस धाकड़ भी मौके पर पहुच कर घटनास्थल का मौका मुआयना किया और दोनों मोरो को पीएम के लिए भेज  दिया गया है। बही चश्मदीद दुर्गादास ने बताया कि बमरा के 2 लोगो ने 3 मोरो का शिकार किया था, दोनों शिकारी अभी तक फरार है।

बॉक्स

पूर्ब में भी हो चुके है कई शिकार,शिकार रोकने में बिभाग बिफल

पोहरी बनपरिक्षेत्र के अंतर्गत इस समय शिकारियों के हौसले इतने बुलंद है कि बिभाग की गश्ती से कोई डर नही है। बही आज कल दोपहर में ही शिकार होने के मामले सामने आने लगे है।

पोहरो के समीप ग्राम बमरा में 3 मोरो का अज्ञात लोगों द्वारा शिकार कर लिया जिसमें से 2 मोर बरामद कर ली गई है। ग्रामीणों के अनुसार पूर्ब में इस जगह करीब 150 मोर थी जिनका शिकार होते होते 20-25 रह गई है। बन मंडल के क्षेत्रीय अधिकारियो पर सवालिया निशान  उठता है कि आखिर क्यों गश्त नही किये जाते। अधिकारियों की लापरबाही से इस क्षेत्र में राष्ट्रीय पक्षी मोर के विलुप्ति का कारण बन सकती है।

 इनका कहना है कि 

कामलिका मोहन्ता सीसीएफ:- अगर इन क्षेत्रों में शिकार हो रहे है तो सम्बन्धित अधिकारियो को निगरानी हेतु निर्देश दिए जाएंगे।

जो भी दोषी होगा उस पर कार्रवाई की जाएगी।

 दुर्गादास साधु चश्मदीद:- में आश्रम में लौट रहा था जभी 2 लोग गिलोल से शिकार कर रहे थे उनके द्वारा 3 मोरो का शिकार कर लिया था लेकिन जब में उनके पीछे भगा तो बो लोग 1 मोर लेकर भाग गए फिर लोगो को इकट्ठा कर बिभाग को सूचना दी है।

Durgesh Gupta

Chief Editor

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *