​रोड चौड़ीकरण में टूटे,उजड़े पार्क में तात्या टोपे को किया गया याद

चुनावी व्यस्तता के चलते श्रद्धांजलि देने नही पहुँच सके कलेक्ट

तात्या के परिजनों ने जताई नाराजगी

शिवपुरी

सन् 1857 की क्रांति में अंग्रेजों के छक्के छुड़ाने वाले शहीद तात्याटोपे की 205 वीं जन्म जयंती शनिवार को शिवपुरी में उनके समाधि स्थल पर टूटे और उजड़े पार्क में मनाई गई। शनिवार को तात्याटोपे की 205 वीं जयंती थी। इस मौके पर जब लोग शहीद तात्याटोपे को याद करने के लिए उनके राजेश्वरी मंदिर रोड स्थित पार्क पर पहुंचे तो यह पार्क टूटा और उजड़ा हुआ था। कारण यह था कि इस पार्क को अभी कुछ दिन पहले ही नगर पालिका ने रोड चौड़ीकरण के दौरान एक ठेकेदार के माध्यम से तुडवा दिया है। वीर शहीद तात्या की प्रतिमा पिछले चार माह से इस उजड़े और टूटे पार्क में ही लगी हुई है। स्थिति यह है कि जो पार्क कभी हरा-भरा था वह आज अव्यवस्थित है और यहां कोई देखभाल भी नहीं हो रही है। 

नए पार्क का काम नहीं हो पाया चालू

तात्याटोपे के प्रतिमा स्थल और पार्क का नए सिरे से निर्माण कराया जाना है। इसके लिए नगर पालिका ने पिछले दिनों 70 लाख रुपए की राशि से काम के लिए टेंडर निकल वर्क ऑर्डर जारी किए लेकिन अभी तक इस पार्क के जीर्णोद्वार का काम शुरू नहीं हो पाया है। बताया जाता है कि इस पार्क में नए निर्माण के अलावा तात्या की प्रतिमा पार्क के अंदर स्थापित की जाएगी। नगर पालिका द्वारा बनाए जा रहे इस पार्क की नई ड्राईंग और तात्या की प्रतिमा स्थानांतरण को लेकर भी विवाद है इसलिए काम शुरू होने में बिलंब हो रहा है। तात्या टोपे को श्रद्धांजलि देने आए कई लोगों ने तात्या के इस पार्क की हालत पर नाराजगी जताते हुए कहा कि जल्द से जल्द इस पार्क के जीर्णोद्वार का काम शुरू होना चाहिए। 

शहीदों का अपमान कर रही है सरकार

प्रदेश में भाजपा की सरकार शहीदों के सम्मान की बात करती है लेकिन सन् 1857 की क्रांति से जुड़े तात्याटोपे के साथ शिवपुरी में अपमान किया जा रहा है। आर्यावर्त संस्थान के अध्यक्ष और श्रद्धांजलि सभा के आयोजक नितिन शर्मा ने कहा कि वह जिला प्रशासन को कई बार ज्ञापन देकर इस स्थल के सही निर्माण व जीर्णोद्वार की मांग कर चुके हैं लेकिन कुछ प्रशासनिक अफसर इसमें अडंगा बने हुए हैं। उन्होंने कहा कि जब पार्क के निर्माण में देरी होनी थी तो यह प्रतिमा स्थल वाला पार्क तोड़ा ही क्यों गया था।

क्या कहते हैँ तात्याटोपे के पोते

टूटा और अधूरा पार्क यह शहीदों का अपमान है। जिला प्रशासन को ध्यान देना चाहिए कि जल्द से जल्द तात्या की याद में नए पार्क का निर्माण हो। मैंने पूर्व में एक ज्ञापन कलेक्टर और राज्यपाल महोदय को दिया था कि इस पार्क का जीर्णोद्वार किया जाए लेकिन कोई ध्यान नहीं दिया गया। 

सुभाष टोपे

तात्याटोपे के परिजन

Durgesh Gupta

Chief Editor

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *