शिवपुरी जिले में 55 मानक बोरा तेंदुपत्ता संग्रहित ,तेंदुपत्ता तोड़ने का कार्य हुआ शुरू

 

शिवपुरी, 08 मई 2018/ शिवपुरी जिले में भी तेंदुपत्ता संग्रहण का कार्य 06 मई से शुरू हो गया है। जिले में अभी तक 55 मानक बोरा तेंदुपत्ता का संग्रहण किया जा चुका है। तेंदुपत्ता संग्रहण कार्य में लगे जिले के लगभग 40 हजार तेंदुपत्ता संग्राहक लाभांवित होंगे।
वनमण्डलाधिकारी श्री लवित भारती ने बताया कि इस वर्ष तेंदूपत्ता सीजन में जिले में संग्रहण का कार्य शुरू हो चुका है। अभी तक 55 मानक बोरा तेंदुपत्ता तोड़ने का कार्य किया जा चुका है। श्री भारती ने बताया कि राज्य शासन ने तेंदुपत्ता संग्राहकों को संग्रहण की राशि 1250 रूपए से बढ़ाकर 2 हजार रूपए प्रति मानक बोरा कर दी गई है। तेंदुपत्ता संग्रहण कार्य में लगे जिले के लगभग 40 हजार तेंदुपत्ता संग्राहक लाभांवित होंगे।
वनमण्डलाधिकारी श्री लवित भारती ने बताया कि तेंदुपत्ता तोड़ने वाले परिवारों के अध्ययनरत बच्चों के लिए शासन द्वारा एकलव्य छात्रवृत्ति योजना संचालित है।
इस योजना के तहत कक्षा 09 से 10वीं तक अध्ययनरत छात्र-छात्राओं को 12 हजार रूपए की राशि, कक्षा 11 से 12वीं तक अध्ययनरत छात्र-छात्राओं के लिए 15 हजार की राशि और गैरव्यवसायिक पाठ्यक्रमों में विद्यार्थियों के लिए 20 हजार रूपए की राशि, जबकि व्यवसायिक पाठ्यक्रमों में अध्ययरत छात्र-छात्राओं को छात्रवृत्ति 50 हजार रूपए की राशि प्रतिवर्ष छात्रवृत्ति के रूप में प्रदाय की जाती है।
उन्होंने कहा कि तेंदुपत्ता संग्राहक कल्याण योजना के तहत ऐसे तेंदुपत्ता संग्राहक जिसकी आयु 18 से 60 वर्ष है, उसकी सामान्य मृत्यु होने पर 10 हजार रूपए की राशि, दुर्घटना में आंशिक अपंगता होने पर 20 हजार रूपए की राशि, पूर्ण अपंगता होने पर 50 हजार रूपए की राशि और मृत्यु हो जाने पर मृतक के परिजन को 2 लाख रूपए की सहायता राशि प्रदाय की जाती है।
जनहानि एवं पशुहानि के 13 प्रकरणों में 1 लाख 84 हजार रूपए की सहायता
वनमण्डलाधिकारी ने बताया कि वनप्राणियों द्वारा जनहानि, घायल होने एवं पशु हानि एवं पशु के घायल होने पर वर्ष 2017-18 में 13 प्रकरणों में 1 लाख 84 हजार 857 रूपए की राशि क्षतिपूर्ति के रूप में प्रदाय किए गए है। जिसमें जनहानि (घायल होने पर) के 7 प्रकरणों में 32 हजार 857 रूपए और पशुहानि के 6 प्रकरणों मंे 1 लाख 55 हजार रूपए की राशि पशुपालकों को प्रदाय की गई है।

Durgesh Gupta

Chief Editor

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *