87वीं पुण्यतिथि पर शिवपूरी में भी शहीद गणेश शंकर विद्यार्थी को किया याद

शिवपूरी: पत्रकारिता के पुरोधा.अमर शहीद गणेश शंकर बिद्यार्थी जी को उनकी 87 वीं पुण्यतिथि पर 25 मार्च 2018 दिन रविवार को एम पी वर्किंग जर्नलिस्ट यूनियन की जिला इकाई शिवपूरी द्वारा एक गरिमामय कार्यक्रम शाम 4 बजे पारिक कैफे हाऊस सावरकर मार्केट में आयोजित कर पुष्पांजलि अर्पित की गई।

गणेश शंकर विधार्थी एक निडर ओर निष्पक्ष पत्रकार थे गणेश शंकर विधार्थी जिन्होंने अपनी कलम की ताकत से समाचार पत्रों से जुड़कर स्वाधीनता के लिये लड़ाइयां लड़ी ओर देश को आजादी दिलाने में अहम भूमिका रही गणेश शंकर बिद्यार्थी का जन्म 26 अक्टूबर 1890 को इलाहवाद में हुआ

इन्होंने अपनी लेखनी की ताकत से भारत मे अंग्रेजी शासन की नींद उड़ा दी गणेश शंकर बिद्यार्थी निडर ओर निष्पक्ष पत्रकार थे और उन्होंने देश की सेवा की बिद्यार्थी पत्रकारिता के युगपुरुष माने जाते है महान पत्रकार पुरोधा 25 मार्च 1931 को कानपुर में शहीद हुये भारत के स्वतंत्रता आंदोलन के इतिहास में पत्रकारिता के पुरोधा गणेश शंकर विद्यार्थी का योगदान अजर-अमर है ।

उन्होंने अपनी क्रांतिकारी लेखनी से न अग्रेजो की नींद तो उड़ाई ही साथ ही गांधी जी के अंहसावादी विचारों और क्रांतिकारियों का समान रूप से समर्थन किया । उत्पीड़न और अन्याय के खिलाफ हमेशा मुखर रहने वाले विद्यार्थी जी महज 41 वर्ष की आयु में ही दंगों के दौरान निसहायों को बचाते हुए दुनिया से अलविदा कह गए थे ।

यह बात पत्रकारिता के पुरोधा शहीद गणेश शंकर विद्यार्थी की पुण्यतिथि के अवसर पर एमपी वर्किंग जर्नलिस्ट यूनियन जिला इकाई शिवपूरी के तत्वावधान में आयोजित पुष्पांजलि कार्यक्रम में वरिष्ठ पत्रकार बिजय चौकसे ने उन्हें याद करते हुए कही।

वहीँ वरिष्ठ पत्रकार एम पी वर्किंग जर्नलिस्ट यूनियन प्रांतीय सचिब डॉ भूपेंद्र शर्मा विकल ने भी कहा कि स्वाधीनता आंदोलन से जुड़ने के बाद गणेश शंकर जी ने कर्मयोगी, स्वराज्य व प्रताप जैसे क्रांतिकारी पत्रों में विद्यार्थी उपनाम से लेख लिखे ।उन्होंने कहा कि आज के दौर में जब पत्रकारिता पर सवाल उठ रहे हैं। सत्ता से संबधों की बात हो रही है।

सवालों पर मानहानि के केस सहित बहिष्कार पत्रकार झेल रहे हैं। ऐसे में पत्रकारिता करने वालों के लिए गणेश शंकर ऐसे आदर्श हैं जो सीमित संसाधनों और विरोध के वाबजूद कैसे संघर्ष किया जाता है । इसकी सबको राह दिखाते हैं । उनके लिए पत्रकारिता आजीविका का साधन न होकर एक मिशन था। ऐसे कर्मयोगी के आदर्शो को हम अपने जीवन में आत्मसात करें और उनके बताए मार्ग पर चलने का प्रयास करें।

पुण्यतिथि पर कार्यक्रम का संचालन बरिष्ठ पत्रकार उम्मेद सिंह झां ने किया तथा आभार एम पी वर्किंग जर्नलिस्ट यूनियन जिला इकाई जिलाध्यक्ष अखिलेश दुबे ने व्यक्त किया। इस अवसर पर नीरज गर्ग बिनोद यादब बल्ले शिवहरे शलभ तिबारी शाहिल खांन इसाक खां बलराम शर्मा कामता प्रसाद उपस्थित रहे।

Durgesh Gupta

Chief Editor

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *