ग्राम पंचायत टीला में मजदूरों को नहीं दिया जा रहा है रोजगार

फर्जी मस्टर जनरेट कर हडपी जा रही है राशि

निर्माण कार्यों को मशीनों से कार्य कराया जा रहा है

शिवपूरी: जनपद पंचायत करैरा की ग्राम पंचायत टीला में सरपंच सचिव द्वारा स्थानीय मजदूरों को रोजगार नहीं दिया जा रहा है।

स्थानीय मजदूर दर-दर की ठोकरें खा रहे हैं, उन्हें किसी प्रकार का रोजगार नहीं दिया जा रहा है इसका खुलासा आज जब हुआ, जब जनपद पंचायत की अध्यक्ष श्रीमती बती आदिवासी अपने जनपद सदस्यों के साथ क्षेत्र के भ्रमण पर निकली तब भ्रमण के दौरान उन्होंने ग्राम पंचायत टीला में चल रहे निर्माण कार्यों का जायजा लिया तो वहां देखा कार्य पहले ही मशीनों से करा दिया गया है जबकि आज जो मजदूरों के मस्टर जनरेट किए गए हैं।

वे सब फर्जी थे। क्योंकि मौके पर एक भी मजदूर मजदूरी करते हुए नहीं मिला। जनपद अध्यक्ष ने जब वहां स्थानीय मजदूरों से बातचीत की तो उन्होंने कहा कि हम को पता ही नहीं चलता है कि हमें कब रोजगार दिया जा रहा है और वह अपने चहेतों के नाम से ही बार-बार मस्टर जनरेट कर लेते हैं उन्हीं को पैसे निकालकर उनसे पैसे ले लेते हैं।

ग्राम पंचायत टीला में सालई नदी पर एवं शंकरपुरा पर चेक डैम निर्माण किया जा रहा था। वहां 33 मजदूर कार्य करते हुए बताए गए थे परंतु आज एक भी मजदूर कार्य करते नहीं मिला। वह ड़ेम पहले ही मशीन से बनवा दिया गया था। एवं दो खेत तालाब के कार्य भी जारी थे। जिनमें 1 पर 37 मजदूर व दूसरे पर 36 मजदूर कार्य करते बताए गए थे परंतु मौके पर एक भी मजदूर कार्य करते नहीं मिला। खेत तालाब मशीनों से बनाए गए थे जिनके निशान वहां मौजूद थे।

इस तरह से पंचायती राज को सरपंच सचिव मिलकर पलीता लगाने में जुटे हुए हैं। शासन की योजनाओं का क्रियान्वयन सही ढंग से नहीं हो रहा है। अधिकारी उपयंत्री दौरा करके अपनी सेवा पूजा लेकर बिल निकलवा देते हैं। स्थानीय मजदूर को शासन की योजनाओं का लाभ नहीं मिल पा रहा है। जनपद अध्यक्ष ने जिला कलेक्टर श्रीमती शिल्पा गुप्ता को लिखे पत्र में मांग की है कि सरपंच सचिव के खिलाफ आपराधिक प्रकरण दर्ज हो और स्थानीय मजदूरों को रोजगार दिया जाए।

Durgesh Gupta

Chief Editor

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *