109 घंटे बाद बोरवेल से निकाला जा सका 3 साल का फतेहवीर जिंदगी की जंग हार गया, नहीं बची जान

संगरुर: पंजाब के संगरूर में 125  फुट गहरे बोरवेल में फंसे 3 साल के बच्चे फतेहवीर को आखिरकार मंगलवार सुबह लगभग 5:12 बजे 109 घंटे बाद बाहर निकाल लिया गया. जिसके बाद उसे अस्पताल पहुंचाया गया. लेकिन वहां पर उसने दम तोड़ दिया और ज़िंदगी की जंग हार गया.

पुलिस सुरक्षा के बीच एंबुलेंस में बच्चे को अस्पताल ले जाया गया, जहां उसे मृत घोषित कर दिया गया। संगरूर के उपायुक्त घनश्याम ठोरी ने कहा, ‘फतेहवीर को बोरवेल से बाहर निकाला गया है और उसे एम्बुलेंस में अस्पताल ले जाया जा रहा है।’ बच्चे के स्वास्थ्य के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि इस पर कुछ नहीं कहा जा सकता है।

3 साल का फतेहवीर

3 साल का फतेहवीर

फतेहवीर सिंह सोमवार को तीन साल का हो गया। वह अपने माता-पिता की इकलौती संतान है। वह गुरुवार (6 जून) शाम 4 बजे के आसपास एक खेत में सात इंच चौड़े बोरवेल में उस समय गिर गया था, जब वह संगरूर इलाके के भगवानपुरा गांव में अपने घर के पास खेल रहा था। 

बोरवेल के अंदर ऑक्सीजन की सप्लाई बढ़ा दी गई थी. इसके अलावा बच्चे पर नजर रखने के लिए एक कैमरा भी लगाया गया था. बचाव दल में राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (NDRF) के 26 सदस्य थे. घटनास्थल पर चौबीसों घंटे डॉक्टरों की टीम और एंबुलेंस तैनात थे. घटना के लगभग 40 घंटे बाद शनिवार सुबह पांच बजे उसके शरीर में हलचल देखी गई. बच्चा 10 जून को 3 साल का हो गया था.

फतेहवीर सिंह के माता और परिवार के सदस्यों ने ख्वाजा पीर के दर पर माथा टेका था और उसके सुरक्षित बाहर आने की दुआ मांगी थी. आसपास के इलाके के हजारों लोग और प्रशासन फतेहवीर की जान को बचाने में पूरी ताकत से जुटे थे. भीषण गर्मी भी इन लोगों का हौसला नहीं डिगा सकी.

Durgesh Gupta

Chief Editor

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *