तेल से मालामाल सऊदी अरब, भारत में 100 अरब डॉलर का निवेश करेगा सऊदी अरब, जाने कुछ खास बातें..

सऊदी अरब (Saudi Arabia) के युवराज मोहम्मद बिन सलमान बिन अब्दुल अजीज अल सऊद भारत दौरे पर हैं. भारत और सऊदी अरब ने अपने आर्थिक संबंधों को नई ऊंचाइयों पर ले जाने तथा ऊर्जा संबंधों को खरीददार और विक्रेता से आगे बढ़ाते हुए सामरिक गठजोड़ में तब्दील करने का संकल्प व्यक्त किया है।

सऊदी अरब ने भारत में 100 अरब डॉलर निवेश करने की घोषणा की, विदेश मंत्रालय के अधिकारियों ने यह जानकारी दी। 

सऊदी युवराज (Saudi Crown Prince) और प्रधानमंत्री मोदी के बीच शीर्ष स्तरीय द्विपक्षीय वार्ता हुई. इस वार्ता के बाद सऊदी अरब और भारत के बीच 5 समझौते हुए हैं. भारत और सऊदी अरब के बीच ऊर्जा, टूरिज्म सेक्टर और व्यापार को बढ़ावा देने के लिए करार हुआ है. प्रसार भारती और सऊदी अरब (Saudi Arabia) के बीच प्रसारण साझा करने और इंटरनेशनल सोलर अलायंस के क्षेत्र में भी समझौता हुआ है. सऊदी युवराज ने साझा बयान में कहा कि आतंकवाद के खिलाफ हम भारत के साथ खुफिया जानकारी बांटने समेत हर कदम पर सहयोग करेंगे

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने ट्वीट किया, ‘बड़ी घोषणा। सऊदी अरब, भारत में 100 अरब डॉलर का निवेश करेगा ।’ उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सऊदी अरब के युवराज मोहम्मद बिन सलमान द्वारा भारत में 100 अरब डॉलर का निवेश करने की घोषणा का स्वागत किया। सऊदी अरब की ओर से यह निवेश ऊर्जा, तेलशोधन, पेट्रोकेमिकल्स, आधारभूत ढांचा जैसे क्षेत्रों में किया जाएगा।

सऊदी अरब के युवराज की यात्रा और प्रधानमंत्री मोदी के साथ उनकी बातचीत के बारे में संवाददाताओं को जानकारी देते हुए विदेश मंत्रालय में सचिव (आर्थिक मामले) टी.एस. त्रिमूर्ति ने कहा कि सऊदी अरब द्वारा निवेश की यह घोषणा (100 अरब डॉलर के निवेश) भारत में निवेश के लिए उसके विश्वास को प्रदर्शित करता है।

हज कोटे में वृद्धि पर जताया आभार


प्रधानमंत्री ने भारतीयों के लिए हज कोटे में वृद्धि के मकसद से सऊदी अरब के युवराज के प्रति आभार प्रकट किया। उन्होंने कहा, ‘हमने अपने आर्थिक सहयोग को नई ऊंचाइयों पर ले जाने का निश्चय किया है। हमारे अर्थतंत्र में सऊदी अरब से संस्थागत निवेश को सुविधाजनक बनाने के लिए, हम एक ढांचा स्थापित करने पर सहमत हुए हैं। मैं भारत के आधारभूत ढांचा क्षेत्र में सऊदी अरब के निवेश का स्वागत करता हूं।’प्रधानमंत्री ने कहा कि हमारे ऊर्जा संबंधों को सामरिक गठजोड़ में तब्दील करने का समय आ गया है। दुनिया की सबसे बड़ी रिफाइनरी और सामरिक पेट्रोलियम रिज़र्व में सऊदी अरब की भागीदारी दोनों देशों के ऊर्जा संबंधों को खरीददार और विक्रेता से बहुत आगे ले जाती है। 

सऊदी अरब के बारे में कुछ खास बातें

सऊदी अरब में 95 फीसदी जमीन रेतीली है. सऊदी अरब में कोई नदीं नहीं है. साउदी अरब में पानी से सस्ता तेल है

सऊदी की करेंसी रियाल है, जो कि 18.97 भारतीय रुपये के बराबर है

सऊदी अरब खूबसूरत जगहों वाला देश है. यहां देखने और घूमने के लिए एक से बढ़कर एक जगहें हैं. यहां मादाइन सालेह की नेचुरल ब्यूटी से लेकर बॉर्डर पर मौजूद कलरफुल सिटी नजरान घूमने फिरने के लिए शानदार है. सऊदी अरब के मक्का में बनी अल मस्जिद अन नबावी के बार में कहा जाता है कि इसे पैगंबर मोहम्मद साहब ने स्थापित किया था

सऊदी में महिलाओं के वाहन चलाने पर प्रतिबंध था, लेकिन लंबे संघर्ष  के बाद अब यहां की महिलाएं वाहन चला रही हैं. बता दें कि सऊदी में पहले महिलाएं वोट नहीं दे सकती थी, लेकिन लंबे संघर्ष के बाद यहां निकाय चुनाव में महिलाओं को वोटिंग और चुनाव लड़ने का अधिकार मिला था.

सऊदी की करेंसी रियाल है, जो कि 18.97 भारतीय रुपये के बराबर है.

Durgesh Gupta

Chief Editor

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *