नशे की एक बुरी आदत सम्पूर्ण जीवन का विनाश करती है, अंतर्राष्ट्रीय नशा निवरण दिवस पर आयोजित हुई बैठक व रैली 

शिवपुरी:  नशे की एक बुरी आदत मनुष्य के सम्पूर्ण जीवन का विनाश कर देती है, इसलिये जीवन में हमेशा नशे की बुरी लत से दूर रहें।
उपरोक्त विचार गायत्री परिवार के पुरोहित श्री एन.आर.मेहते ने अंतर्राष्ट्रीय नशा निवारण दिवस के उपलक्ष्य में हर्बल पार्क, न्यू ब्लॉक में आयोजित बैठक में व्यक्त किए। श्री मेहते ने कहा कि यह शरीर परमेश्वर का मंदिर है। किसी भी स्थिति में इसे हमें अपवित्र और खराब करने का अधिकार नहीं है। 
वरिष्ठ कवि और कलाकार अरुण अपेक्षित ने लोककथा के माध्यम से यह बताने का प्रयास किया कि सभी अपराधों की जननी शराब है, इससे हमेशा के लिये दूरी बनायें। श्री अपेक्षित ने युवाओं और नागरिकों से आग्रह किया कि हम जिस स्थान पर है यहां राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की दो मुट्ठी भस्म को भूमि में गाढ़ा गया है, वो स्थान राजघाट से कम नहीं हैं। इसलिये हम सभी मन ही मन यह संकल्प लें कि हम किसी भी प्रकार का नशा नहीं करेंगे।
गायत्री परिवार के हरीराम साहू और शा.कलापथक दल शिवपुरी के कलाकार श्री हरिवंश त्रिवेदी, मनोज बाबरा, विनोद श्रीवास्तव ने भी नशाबंदी से संबंधित गीतों की मनमोहक प्रस्तुति की। उपसंचालक सामाजिक न्याय डॉ.अजीत तिवारी ने नशा न करने की शपथ दिलाई।
इस मौके पर नशाबंदी रैली में बदल गई जो जल मंदिर, सहस्त्रबाहु चौराहा से अनांजमंडी होती हुई गांधी-मैदान में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की समाधि स्थल पर पहुंच कर समाप्त हुई। अंत में आभार गायत्री परिवार के नरेश वंसल ने किया।
उपसंचालक सामाजिक न्याय एवं गायत्री परिवार ट्रस्ट द्वारा संयुक्त रूप से आयोजित बैठक एवं रैली में सर्वश्री जनअभियान परिषद के धर्मेन्द्र सिसोदिया, नेहरू युवा केन्द्र के राजेन्द्र विजयवर्गीय, खेलकूद विभाग के जूडो कोच शिशुपाल रघुवंशी, नितिन सरोदे, शिक्षाविद् एम.एस.द्विवेदी, अनिल रावत, नरेश गोंडल, कुलदीप राजपूत के अलावा गायत्री परिवार के अन्य सदस्य, नवयुवक, छात्र-छात्रायें व नागरिक उपस्थित रहे।

Durgesh Gupta

Chief Editor

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *