प्रदेश सरकार ने अपने 70 दिन में नीति और नियत का परिचय दिया, भाजपा बताए वायदों का क्या हुआ: कमलनाथ

(दुर्गेश कुमार गुप्ता शहडोल तहसील ब्यौहारी ) शहडोल | प्रदेश सरकार ने अपने 70 दिन में नीति और नियत का परिचय दिया है। कृषि हमारी प्राथमिकता है क्योंकि प्रदेश मंे 70 प्रतिशत् लोग कृषि पर आधारित हैं।

अगले दो दिनों में प्रदेश में 25 लाख किसानों का कर्जा माफ होने जा रहा है। कर्ज माफी आगे भी चलती रहेगी और आगे 50 लाख किसानों का कर्ज माफ होगा। कृषि क्षेत्र की हर चुनौतियों को स्वीकार करते हुये मध्यप्रदेश के किसानों की समस्याओं का निराकरण कर प्रदेश के कृषि क्षेत्र में नई क्रांति लाई जायेगी।

कृषि विकास को बढ़ावा देने के लिये किसानों को पानी, बिजली एवं अन्य सुविधायें भी मुहैया कराई जायेगी। यह बात मुख्यमंत्री कमलनाथ ने आज संभागीय मुख्यालय शहडोल के बाणगंगा मैदान में आयोजित किसान फसल ऋण माफी योजना एवं किसान सम्मान पत्र वितरण कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए कही।

70 दिन में ही नीति और नियत का परिचय दिया-कमलनाथ

मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा कि कृषि क्षेत्र को नए नजरिए से देखना होगा। उन्होंने कहा कि जब कृषि मजबूत होगी तभी अर्थव्यवस्था मजबूत होगी। उन्होंने कहा कि पहले प्रदेश में घोषणा की सरकार थी लेकिन मैं घोषणा नहीं करता और यह सरकार वचन की सरकार है।

मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा कि पिछले 15 सालों में जितने उद्योग प्रदेश में आए नहीं उससे ज्यादा बंद हो गए। उन्होंने कहा कि हमारी सरकार घोषणा और विज्ञापन की सरकार नहीं है, हमने जो वचन दिया था उस वचन को पूरा करने के प्रयास भी कर रहे हैं।

उन्होनें कहा कि युवाओं के भविष्य से खिलवाड़ नहीं होने देगें, युवाओं को प्रशिक्षण देकर समुचित रोजगार के अवसर मुहैया कराये जाने के प्रयास किये जा रहे हैं। मध्यप्रदेष सरकार प्रदेष के युवाओं का भविष्य संवारने का काम कर रही है, इसके लिये निरन्तर प्रयास किये जा रहे हैं।

उन्होनंे कहा कि अभी उनसे यहां के इंजीनियरिंग काॅलेज के छात्र मिलने आए थे जिन्होंने बताया कि इंजीनियरिंग काॅलेज तो खुल गया लेकिन सुविधाएं नहीं हैं। पिछली सरकार ने काॅलेज तो खोल दिया लेकिन सुविधाएं नहीं दी। उन्होंने तंज कसा कि अस्पताल दिखा देने से बीमारी का इलाज नहीं होता।


मुख्यमंत्री कमलनाथ ने पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज ंिसह चैहान का नाम लिए बिना उन्हें आडे़ हाथ लेते हुए कहा कि वे ऐसा प्रदेश छोड़कर गए थे, कि हमारे कार्यभार सम्हालने के वक्त किसानों की आत्महत्या, बेरोजगारी और महिलाओं के साथ बलात्कार के मामले में प्रदेश नंबर वन था।

भाजपा बताए वायदों का क्या हुआ

अपने दस मिनट के संबोधन में मुख्यमंत्री कमलनाथ ने तीन बार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का उल्लेख किया और कहा कि प्रधानमंत्री ने स्किल इंडिया, मेक इन इंडिया, बेरोजगारों को रोजगार, 15 लाख बैंक खाते में आएंगे और अच्छे दिन आएंगे का नारा दिया था। लेकिन ये सिर्फ जुमला साबित हुआ। भाजपा बताए कि किसके अच्छे दिन आए।

मुख्यमंत्री श्री नाथ ने सामने बैठे लोगों को बताया कि आम आदमी के नहीं बल्कि भाजपा नेताओं के अच्छे दिन आए हैं। जो भाजपा का नेता दोपहिया वाहन में चलता था आज वह चार पहिया वाहन में चल रहा है। नोट बंदी का जिक्र करते हुए श्री नाथ ने कहा कि केंद्र सरकार ने नोटबंदी की आड़ में काले धन को सफेद कर दिया गया।

राष्ट्रवाद का पाठ न पढ़ाएं

अपने संबोधन में मुख्यमंत्री कमलनाथ ने भाजपा पर जमकर प्रहार किया। उन्होंने कहा कि भाजपा आज राष्ट्रवाद की बात कर रही है। उन्होंने कहा कि भाजपा बताए कि देश को आजाद कराने में उनका क्या योगदान है। उन्होंने पूछा कि क्या उनका एक भी स्वतंत्रता संग्राम सेनानी है।

उन्होंने दो टूक कहा कि भाजपा के लोग कांग्रेस को राष्ट्रवाद न समझाए। मुख्यमंत्री श्री नाथ ने लोगों से कहा कि अगले दो महीने में आपको फैसला करना है। विश्वास अधूरा नहीं छोड़िएगा। उन्होंने लोगों से कहा कि आप कमलनाथ पर भरोसा रखिए निश्चित ही हम प्रदेश को विकास का प्रदेश बनाएंगे।

समारोह को जनजातीय कार्य विभाग एवं शहडोल जिले के प्रभारी मंत्री ओमकार सिंह, पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री कमलेश्वर पटेल, अनूपपुर विधायक बिसाहूलाल सिंह, कोतमा विधायक सुनील सराफ, विधायक पुष्पराजगढ़ फुन्देलाल सिंह मार्को, जिला कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष आजाद बहादुर सिंह और कलेक्टर शहडोल ललित दाहिमा ने भी संबोधित किया।

इस अवसर पर मुख्यमंत्री कमलनाथ ने किसानों को ऋण माफी प्रमाण-पत्र एवं किसान सम्मान पत्र भी वितरित किए।


समारोह में प्रदेश के आबकारी मंत्री बृजेन्द्र सिंह राठौर, अध्यक्ष जिला पंचायत शहडोल नरेन्द्र मरावी, पूर्व विधायक श्रीमती प्रमिला सिंह, पूर्व विधायक रामपाल सिंह, विधायक शहपुरा भूपेन्द्र सिंह, वरिष्ठ कांग्रेस नेता शिवकुमार नामदेव, जिला कांगेे्रस कमेटी के कार्यवाहक अध्यक्ष महमूद अहमद व बलमीत सिंह खनूजा, अनूपपुर जिला कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष जयप्रकाश अग्रवाल, कमिष्नर शहडोल संभाग जे.के. जैन, पुलिस महानिरीक्षक एस.पी. सिंह, मुख्य वन संरक्षक ए.के. जोषी, पुलिस अधीक्षक शहडोल कुमार सौरभ सहित अन्य जनप्रतिनिधि, पत्रकार एवं बड़ी संख्या में गणमान्य नागरिक उपस्थित रहे।

झलकियां

-मुख्यमंत्री कमलनाथ निर्धारित समय 12 बजे से एक घंटे विलंब से पहंुचे।
-कार्यक्रम स्थल पर पहंुचते ही मुख्यमंत्री सीधे सामने बैठे लोगों से मिलने पहुंच गए और लोगों से हाथ भी मिलाया।

-मंच में बड़ी संख्या में कांग्रेस नेता विराजमान थे, लेकिन चंद नेताओं को छोड़ किसी को स्वागत के लिए नहीं बुलाया गया। मंचासीन कुछ नेता तो खुद गुलदस्ता लेकर मुख्यमंत्री के पास पहुंच गए।

-ज्ञापन देने पहुंचे धनपुरी नगर पालिका के पूर्व अध्यक्ष हंसराज तनवर को जब पुलिस कर्मचारियों ने मंच तक जाने नहीं दिया तो उन्होंने नीचे से ही चिल्लाना शुरू कर दिया। जिसके बाद सीएम के सुरक्षाकर्मी नीचे गए और श्री तनवर को सीएम के पास लेकर गए।

श्री तनवर ने एक ज्ञापन सौंपा और ज्ञापन के संबंध में सीएम कमलनाथ से चर्चा भी की। वे प्रसन्न मुद्रा में मंच से नीचे आए।

-समारोह की संचालिका की जुबान कई बार फिसल गई और वे नेताओं के नाम का सही उच्चारण नहीं कर सकीं। विधायक फुंदेलाल सिंह का उन्होंने गलत नाम पुकारा, तो विधायक बिसाहूलाल सिंह को मंत्री का संबोधन दिया।

-मंच में जब नेताओं का संबोधन चल रहा था, तो कांग्रेस के नेता बारी बारी से मुख्यमंत्री के करीब जाकर कनफुक्की करते रहे।

-नगर पालिका शहडोल के वार्ड क्रमांक एक के पार्षद लल्ला कोल और सपा नेता एजाज खान सहित कई अन्य लोगों ने सीएम के हाथों कांग्रेस की सदस्यता ली।

Durgesh Gupta

Chief Editor

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *