देश के 50 करोड़ लोगों को मोदी सरकार का सबसे बड़ा तोहफा

नई दिल्ली- चुनावी साल में मोदी सरकार देश के 50 करोड़ लोगों को नया तोहफा देने जा रही है। दरअसल मोदी सरकार अब कर्मचारियों के लिए विश्वकर्मा अकाउंट खोलने जा रही है

ताकि कर्मचारियों को सोशल सिक्योरिटी के फायदे मिल सके। इस पूरी योजना का नाम यूनीवर्सल सोशल सिक्योरिटी स्कीम रखा गया है।

इस अकाउंट के तहत कोई कर्मचारी कंपनी में में काम करता है तो उस कंपनी या संस्थान की जिम्?मेदारी होगी वह एक तय समय में उस वर्कर का सोशल सिक्योरिटी अकाउंट विश्वकर्मा कार्मिक सुरक्षा खाता खुलवाए।

अगर कंपनी या संस्थान वर्कर का खाता तय समय में नहीं खुलवाता है तो वर्कर खुद से अपना खाता खुलवा सकेगा। इसके लिए सरकार अलग से व्यवस्था करेगी।

अगर कोई अपना खुद का काम करता है तो वह भी अपना खाता खुलवा सकेगा। कर्मचारी का यह अकाउंट पूरी तरह से पोर्टेबल होगा। यानी अगर कोई दिल्ली में काम कर रहा है और उसका विश्वकर्मा खाता खुल गया है और बाद में पश्चिम बंगाल में जाकर काम करता है तो उसे नए विश्वकर्मा खाता खुलवाने की जरूरत नहीं होगी।

ये भी पढ़े

केंद्रीय कर्मचारियों को अब न्यूनतम ₹21 हजार सैलरी के साथ, मोदी जल्द ही देंगे कई तोहफे

सरकार इन 50 करोड़ वर्कर्स को सामाजिक आर्थिक आधार पर अलग अलग कैटेगरी में बांटेगी। कमजोर सामाजिक आर्थिक आधार वाले कर्मचारियों को अपने विश्वकर्मा अकाउंट में कोई योगदान नहीं करना होगा।

इन कर्मचारियों को पीएफ, पेंशन सहित दूसरे सोशल सिक्योरिटी बेनेफिट के लिए पूरा कंट्रीब्यूशन सरकार करेगी। ऐसे कर्मचारी जिनकी इनकम इतनी होगी कि वे विश्वकर्मा अकाउंट में कंट्रीब्यूट कर सकें। उनको विश्वकर्मा अकाउंट में सोशल सिक्योरिटी बेनेफिट के लिए कंट्रीब्यूशन करना होगा।

यह उनकी सैलरी या वेज सेलिंग का 12.5 फीसदी से लेकर 20 फीसदी तक हो सकता है।

ये भी पढ़े

मनमाने बिजली के बिल देकर किसानों को जेल भेज रही है भाजपा सरकार- किसान कोंग्रेस

50 करोड़ को पीएफ , पेंशन सहित मिलेंगे ये 10 फायदे

यूनीवर्सल सोशल सिक्योरिटी स्कीम के तहत 50 करोड़ वर्कर्स को पीएफ, पेंशन के अलावा मेडिकल मेनेफिट, इन्श्योरेंस कवर, सिकनेस बेनेफिट, मैटरनिटी बेनेफिट, अनइम्पलॉयमेंट बेनेफिट, डिपेंडेंट बेनेफिट इनवैलेडिटी बेनेफिट और इंटरनेशनल वर्कर्स पेंशन बेनेफिट सहित 10 फायदे मुहैया कराए जाएंगे।

ये भी पढ़े प्राइवेट कर्मचारियों को न्यूनतम वेतन नही दिया तो ,3 साल की सजा व 20 हजार का जुर्माना होगा

बता दें किमौजूदा समय में सिर्फ संगठित क्षेत्र में काम करने वाले वर्कर्स को पीएफ और पेंशन की सुविधा मिल रही है। ईपीएफ एक्ट 1952 के तहत अगर किसी कंपनी या संस्थान में 20 या इससे अधिक कर्मचारी काम करते हैं तो कंपनी के लिए उन कर्मचारियों का पीएफ काटना जरूरी है।

कर्मचारी भविष्य निधि संगठन इन कर्मचारियों को ईपीएसए 95 स्कीम के तहत इन कर्मचारियों को पेंशन की सुविधा भी देती है, लेकिन असंगठित क्षेत्र में काम करने वाले वर्कर्स को पीएफ पेंशन की सुविधा नहीं मिल रही है। जबकि देश में काम करने वाला बड़ा वर्ग असंगठित क्षेत्र में काम कर रहा है।

समाचार पढ़ने के लिए आप लोगों का धन्यवाद समाचार आपको पसंद आया है तो कृपया लाइक औऱ करना ना भूलें.

Durgesh Gupta

Chief Editor

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *